Wednesday, July 14, 2010

समर

एक दिन अपने आप को
'समर' में अकेला पाया
बेरोजगारी-गरीबी-रिश्वतखोरी
भुखमरी-भ्रष्टाचारी-कालाबाजारी
समस्याओं से गिरा पाया

मेरे मन में
भागने का ख्याल आया
भागने की सोचकर
चारों ओर नजर को दौडाया
पर कहीं, रास्ता न नजर आया
किंतु इनकी भूखी-प्यासी
तडफ़ती-बिलखती आंखों को
मैं जरूर भाया

फ़िर मन में भागने का ख्याल
दोबारा नहीं आया
सिर्फ़ इनसे लडने-जूझने
इन्हें हराकर
'विजेता' बनने का हौसला आया

समर में, इनके हाथ मजबूत
आंखें भूखी, इरादे बुलंद
और तरह-तरह के हथियारों से
इन्हें युक्त पाया
और सिर्फ़ एक 'कलम' लिये
इनसे लडता-जूझता पाया

मेरी 'कलम'
और
इन समस्याओं के बीच
समर आज भी जारी है
इन्हें हराकर
'विजेता' बनने का प्रयास जारी है ।

4 comments:

अरुणेश मिश्र said...

अच्छे विचारों का तारतम्य ।

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

यह समर अपने मकाम तक पहुँचे, आपका लक्ष्य आके नाम तक पहुँचे।
--------
पॉल बाबा की जादुई शक्ति के राज़।
सावधान, आपकी प्रोफाइल आपके कमेंट्स खा रही है।

Vinay Prajapati 'Nazar' said...

बहुत सुन्दर कल्पना और कृति

Rahul said...

Very right...often we think what we must do to resolve the problems we see everyday ... sadly it not an easy task...well our pen is only way we can keep issues burning!!before people get used to their daliy issues and problems!!