Wednesday, September 1, 2010

भारत की पहचान

एक छोटी सी बात अलग है
भारत की पहचान अलग है

कुंभ का स्नान अलग है
हिमालय की शान अलग है
फ़ौजों का आगाज अलग है
रिश्तों में मिठास अलग है

एक छोटी सी ............

होली की गुलाल अलग है
दीवाली की रात अलग है
दोस्ती का मान अलग है
दुश्मनी की घात अलग है

एक छोटी सी ............

इंसा का ईमान अलग है
नारी का स्वाभिमान अलग है
सर्व-धर्म की बात अलग है
भारत की पहचान अलग है

एक छोटी सी बात अलग है
भारत की पहचान अलग है ।

5 comments:

Akhtar Khan Akela said...

uday bhaayi kmaal ki rashtriytaa ka bhav shbdon men ukera he mere desh men aap jese hen isiliyen to meraa bhart mhaan he . bhtrin or bhut bhtrin rchnaa ke liyen angint baar bdhaayi, akhtar khan akela ktoa rajsthan

ओशो रजनीश said...

अच्छी पंक्तिया है ...
.
धन्यवाद

http://oshotheone.blogspot.com/

Dr.J.P.Tiwari said...

yahi to hamari pahachan hai jo sari dunia me hame vishisht banati hai. saarthak rachna. Thanks for nation oriented article

Rahul said...

Nice....shows all colors of India

Akhtar Khan Akela said...

vaah udy bhaayi hr andaaz niraala he sahity ki duniya men khub chok chkke maar rhe ho mubaark ho bhut bhut achchaa lekhn he. akhtar khan akela kota rajsthan